कमर दर्द होने का कारण, लक्षण एवं घरेलू उपचार


स्वास्थ्यखराब होने की सबसे आमसमस्या बनती जा रही है‘ ‘कमर दर्दआपको जानकर आश्चर्य होगा कि हर सातव्यक्तियों में से एक कोकमर दर्द की शिकायत रहतीहै। 

कमर के अलगअलगहिस्से में दर्द होना अलगअलग कारणों की ओर इशाराकरता है।

किन किन कारणों से हो सकताहै कमर दर्द?

 रीढ़  कीहड्डी के लचीलेपन कीवजह से ही हमलोग उठते, बैठते, लेटते, चलते,   झुकपाते हैं।  ग़लततरीके से उठने, बैठने, लेटने, चलने, झुकने या काम करनेसे डिस्क पर लगातार ज़ोरपड़ता है जिससे स्पाइनकी तंत्रिकाओं पर दवाब जाता है, जिससे मांसपेशियां धीरेधीरे कमज़ोर होने लगती हैं। 

ज्यादा लंबे समय से एक हीअवस्था में बैठकर पढ़ना या कंप्यूटर आदिपर काम करना भी कमर दर्दका कारण बन जाता है।महिलाओं में आमतौर से कैल्शियम कीकमी के कारण कमरदर्द होने का इशारा मिलताहै। 

पुरुषों में जो लोग कईकई घंटे एक ही अवस्थामें बिना आराम करे काम करते हैं उनमें कमर दर्द की शिकायत अधिकरहती है, रीढ़ की हड्डी मेंकिसी भी प्रकार कीचोट या संक्रमण होनाभी कमर दर्द की एक वजहहोता है।

कमर दर्द होने का कारण, लक्षण एवं घरेलू उपचार:-

लेट कर टीवी देखना,पढ़ाई करना या मोबाइल टैबआदि का उपयोग करनेसे हमारे शरीर का पोस्चर सहीअवस्था में नहीं रहता है जिसकी वजहसे रक्त संचार प्रभावित होता है। 

रक्त संचार की क्रिया मेंअवरोध उत्पन्न होना भी दर्द काकारण होता है।  कईबार ऊंची एड़ी के जूते,सैंडलपहनने से भी कमरदर्द हो जाता है। 

कमर दर्द से बचाव केलिए सबसे ज़्यादा ज़रूरी है अपने शारीरिकवजन को नियंत्रित रखनाक्योंकि वजन बढ़ने से ना सिर्फरीढ़ की हड्डी मेंबल्कि शरीर के जोड़ों मेंभी ज़ोर पड़ता है जिससे जोड़ोंमें दर्द की समस्या होसकती है। 

भारी सामान उठाते वक्त झुककर उठाने की बजाय बैठकरउठाएं। 70 वर्ष की उम्र केबाद कमर दर्द होना स्वाभाविक माना जाता है क्योंकि इसउम्र में आतेआते हड्डियां कमज़ोर होने लगती है।

कमर दर्द के लक्षण

(1) सोतेसमय करवट बदलने में तकलीफ होना।

(2) भारीसामान उठाने में तकलीफ होना।

(3) उठने,बैठने में दिक्कत होना।

(4) अधिकसमय तक एक हीजगह बैठे रहना मुश्किल हो जाना।

(5) जल्दीथकान महसूस होने लगना।

(6) कमरसे पैर तक दर्द होना।

(7) अक्सरपैरों में झनझनाहट और पैरों कासुन्न हो जाना।

कमर दर्द होने से कैसे बचेंयाघरेलू उपचार 

(1) दूधया कैल्शियम युक्त अन्य चीज़ों को आहार चर्याका ज़रूरी हिस्सा बनाएं

(2) आपविटामिनडीसीधा सूरज की किरणों सेले सकते हैं अगर ऐसा रोज़ संभव ना हो तोआप खाने में विटामिनडीसे भरपूर चीज़ेंशामिल कर विटामिनडीकी कमी दूर कर सकते हैं।

(3) व्यायाम कुछ देर पैदल चलने को प्रतिदिन कीचर्या का हिस्सा बनाएं

(4) प्रतिदिन3 लीटर पानी अवश्य पिएं, दो हड्डीयों  के बीच में डिस्क रहती है जिसमे पानीरहेगा तो डिस्क स्वस्थरहेगी।

(5) समयसमय पर औषधीय तेलसे कमर या पूरे शरीरकी मालिश अवश्य करें।

(6) कमरदर्द से राहत पानेके लिए कुछ सूक्ष्म क्रियाएं एवं व्यायाम हैं आप किसी फिजियोथैरेपिस्टया योगा इंस्ट्रक्टर की सलाह लेकरउन क्रियाओं को घर मेंस्वयं ही कर सकतेहैं।

(7) कमरके कर्व को बनाए रखनेके लिए कुर्सी पर छोटा तकियालगा कर बैठना लाभदायकहै।

(8) अगरलगातार एक ही अवस्थामें लंबे समय तक बैठना हैतो प्रत्येक आधे घंटे में अपने बैठने के पोस्चर कोबदलते रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here